हरियाणा के CM ने चीफ इंजीनियर को किया सस्पेंड ,SE,XEN-SDO पर चार्जशीट, जानिए पूरा मामला

Sports News Without Access, Favor, Or Discretion!

  1. Home
  2. Haryana

हरियाणा के CM ने चीफ इंजीनियर को किया सस्पेंड ,SE,XEN-SDO पर चार्जशीट, जानिए पूरा मामला

pic


Haryana khbar :  यमुना में बाढ़ नियंत्रण में लापरवाही को लेकर हरियाणा के CM मनोहर लाल एक्शन में आ गए हैं। दिल्ली में ITO यमुना बैराज के बाढ़ के दौरान 4 गेट नहीं खोले जाने पर मनोहर लाल ने चीफ इंजीनियर संदीप तनेजा को सस्पेंड कर दिया है। साथ ही SE तरूण अग्रवाल और XEN मनोज कुमार, यमुना बैराज पर तैनात SDO मुकेश वर्मा को चार्जशीट करने के आदेश जारी किए हैं।

दिल्ली में ITO के पास बैराज के 32 में से 4 गेट नहीं खुलने के खुलासे से दिल्ली सरकार ने हरियाणा सरकार पर लापरवाही के आरोप लगाए थे। इसके बाद CM मनोहर लाल खट्टर ने पूरे मामले की जांच के लिए फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बनाई थी। कमेटी में जांच के लिए सिंचाई विभाग के 2 चीफ इंजीनियर को शामिल किया गया है।  CM ने 48 घंटे में इसकी जांच कर रिपोर्ट तलब की थी, अब इस मामले की जांच रिपोर्ट आ गई है। इसमें हरियाणा सिंचाई विभाग के अधिकारियों की तरफ से बड़ी लापरवाही सामने आई है।

फ्लड गेट नहीं खुलने के बाद दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि इन गेट का संचालन हरियाणा सरकार करती है। इनके 4 गेट नहीं खुलने की वजह से दिल्ली में बाढ़ की स्थिति बनी है। गेट खुल जाते तो दिल्ली से तेजी से पानी बाहर निकल जाता। हरियाणा सरकार को दिल्ली में कोई दिलचस्पी नहीं, इसलिए इन गेट की मरम्मत नहीं कराई। CM मनोहर लाल ने इसके बाद पूरी निष्पक्षता के साथ ITO बैराज के 4 गेट नहीं खुलने के मामले की सच्चाई जानने के लिए कमेटी का गठन किया था।

pic


हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा था कि ITO बैराज के रखरखाव के लिए हरियाणा कभी भी पैसा नहीं खर्च करता। 2018 तक मेंटेनेंस का पैसा इंद्रप्रस्थ पावर प्लांट ने दिया था। सीएम खट्टर के इस बयान के बाद AAP नेता अनुराग ढांडा ने ट्विटर पर एक चिट्ठी पोस्ट करते हुए कहा है कि आईटीओ बैराज पर सीएम खट्टर का झूठ बेनकाब हो गया है। दिल्ली सरकार ने 2022 में मरम्मत के लिए हरियाणा सरकार को चिट्ठी लिखी थी।


बैराज के 4 गेट न खुल पाने के बाद कार्य के लिए नौसेना के जवानों को तैनात किया गया था, करीब 20 घंटों की बिना रुके मेहनत के बाद ITO बैराज का पहला जाम हुआ गेट खोला गया था। इसके बाद सभी जाम गेटों को खोल दिया गया था।हरियाणा में लगातार हुई बारिश के बाद यमुना समेत अन्य नदियां उफान पर थीं। जिससे करीब 1475 गांवों में पानी जमा हुआ। 4 लाख 8 हजार एकड़ में फसलों को नुकसान पहुंचा है। प्रदेश के 475 मकान पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए हैं, इसके अलावा बाढ़ के दौरान प्रदेश में 47 लोगों की जान गई है।

प्रदेश में 1,324 सड़कों को करीब 2,105 किलोमीटर एरिया में नुकसान हुआ पहुंचा है, इसमें कुल 338 करोड़ रुपए के नुकसान की संभावना है। इसके अलावा 14 पुलों को भी नुकसान पहुंचा है, जिन्हें ठीक करने में 8 करोड़ की लागत आएगी।

दिल्ली में ITO के पास बैराज के 32 में से 5 गेट न खुलने के खुलासे से हरियाणा सरकार में हड़कंप मच गया है। इसे देखते हुए CM मनोहर लाल खट्‌टर ने फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बना दी है। जिसमें सिंचाई विभाग के 2 चीफ इंजीनियर को शामिल किया गया है। CM ने 48 घंटे में इसकी जांच कर रिपोर्ट तलब की है

AROUND THE WEB

Bollywood

Featured