हरियाणा में किसानों पर गहराया संकट, बाढ़ के कारण 1 लाख 47 हजार एकड़ फसल बर्बाद

Sports News Without Access, Favor, Or Discretion!

  1. Home
  2. Haryana

हरियाणा में किसानों पर गहराया संकट, बाढ़ के कारण 1 लाख 47 हजार एकड़ फसल बर्बाद

fasal


Haryana khabar: बाढ़ देश भर में जगह-जगह अपना तांडव मचा रही है। इससे जान-माल की हानि तो हो ही रही है। लेकिन बाढ़ से अत्याधिक प्रभावित अगर कोई हो रहा है तो वह किसान वर्ग। हरियाणा के कई हिस्सों में समूचा किसान वर्ग अपनी फसल को देखकर सिर पर हाथ रखने पर मजबूर हैं।

जिले में लगभग 1,47000 एकड़ में लगी धान खराब हो गई। वहीं 18,410 एकड़ में गन्ना और हरा चारा भी खराब हो गया है। ऐसे में पशुओं के लिए चारे का संकट गहरा रहा है। लगभग 13500 एकड़ में गन्ना और 4900 एकड़ में हरा चारा खराब होने की खबर है। फसल के साथ-साथ गन्ना और हरे चारा की इस दुर्दशा की भरपाई करना मुश्किल है। हालांकि प्रदेश सरकार की ओर से जख्मों को भरने के लिए 3500 से 15000 तक मुआवजे के रूप में दिए जाने की घोषणा भी की गई है।

18,410 एकड़ में गन्ना और हरे चारे का नुकसान हुआ है। धान के 19,600 एकड़ में 25 प्रतिशत तक, 21,800 एकड़ में 26 से 50 प्रतिशत तक, 56,200 एकड़ में 51 से 75 प्रतिशत तक, 49,400 एकड़ में 100 प्रतिशत नुकसान हुआ है। जिस कारण कुल 1,47000 एकड़ धान की फसल बर्बाद हुई है। कृषि विभाग ने खराब हुई फसलों को चार वर्गों में बांटकर रिपोर्ट तैयार की है।

fsal

25 प्रतिशत तक, 7300 एकड़ में 26 से 50 प्रतिशत तक, 1200 एकड़ में 51 से 75 प्रतिशत तक, कुल 13 हजार 500 एकड़ में नुकसान हुआ है। हरा चारा 50 एकड़ में 25 प्रतिशत तक, 1160 एकड़ में 26 से 50 प्रतिशत तक, 1800 एकड़ में 51 से 75 प्रतिशत तक, 1900 एकड़ में 76 से सौ प्रतिशत तक, कुल 4 हजार 910 एकड़ में हरा चारा खराब हो गया।

ब्लाक वन में गन्ने के 1250 एकड़ व 750 एकड़ हरे चारा खराब हुआ। ब्लाक टू में गन्ने के 550 एकड़ व हरे चारे के 660 एकड़ खराब हो गए। साहा खंड में गन्ना के 4200 एकड़ व हरा चारा के 600 एकड़ में नुकसान हुआ है। बराड़ा खंड में गन्ना 5500 एकड़ व हरा चारा के 1700 एकड़ में नुकसान हुआ। नारायण गढ़ में गन्ना का बचाव हो गया। जबकि 50 एकड़ में हरा चारा खराब हो गया। शहजादपुर में गन्ना 2 हजार एकड़ में व 1200 एकड़ में हरा चारा खराब हो गया।

AROUND THE WEB

Bollywood

Featured